गुरुवार, 18 जनवरी 2018

तबला और ठंड

हालांकि मुझे तबला बजाना नहीं आता फिर भी बजाने की कोशिश में सिर्फ इसलिए लगा पड़ा हूं ताकि ठंड न लगे। मगर ठंड इतनी ढीठ है कि लगे बिना मान ही नहीं रही। तबले पर भारी पड़ रही है। तबले के सिरों पर जिनती तगड़ी थाप जमाता हूं ठंड उतनी ही विकट चढ़ी आती है। उंगलियां तक पनाह मांग जाती हैं लेकिन ठंड का ताप कम नहीं होता।

हां, पत्नी अच्छे से तबला बजा लेती है। एक शादी में तबला बजाते देखकर ही मैंने उसे पसंद किया था। फिर आपस में प्रेम-इजहार का कुछ ऐसा तबला बजा कि नौबत शादी तक आ ली।

खैर, मैंने पत्नी को तबला बजाने के लिए इसलिए बोला कि शायद लय-ताल में बजने से ठंड अपना प्रकोप हम पर से कुछ कम कर ले। पर उसने तबला बजाने से यह कहते हुए साफ इंकार कर दिया कि वो अपनी नाजुक उंगलियों को इस भीषण ठंड में 'अतिरिक्त कष्ट' नहीं देना चाहती।

आगे मैंने यह जानते-समझते हुए जिद नहीं करी कि जिद के परिणाम मेरे फेवर में बुरे हो सकते हैं। मैं नहीं चाहता इतनी ठंड में मेरी चारपाई बाहर खुले आंगन में पड़े। बहरहाल, पत्नी के 'दो टूक' कहे का कड़वा घूंट मुस्कुराते हुए पी गया। ऐसा करना मेरी ही नहीं, हम पतियों की नियति है।

खैर, पड़ोस में पड़ा अखबार का पहला पन्ना बता रहा है कि ठंड अभी अपना जोर बनाए रखेगी। हाल-फिलहाल कोई संभावना नजर नहीं आ रही कम होने की। खबर में बसी ठंडक मुझे भीतर से और अधिक गलाए जा रही है। तबला मेरे दिलोदिमाग पर ऐसा बज रहा है कि कान के पर्दे सुन्न-से पड़ने लगे हैं।

ठंड का भी अजीब खेला है। न किसी की सुनती है न किसी के बस में ही आती है। इसका भी वही हिसाब है- 'भैंस के आगे बीन बजाए, भैंस खड़ी पगुराये'। इन दिनों जब सूरज महाराज ठंड और कोहरे को मात न दे पा रहे तो हम किस खेत की मूली है। उत्तर भारत से लेकर अमेरिका तक ठंड अकेली सबका बैंड बजा रही है।

यहां अपनी घर बैठे कुल्फी जमी पड़ी है फिर उनका जेल में क्या हाल होगा। इस उमर में इतना सितम, ठीक नहीं। सोचने वाली बात है, इतनी उग्र ठंड में बंदा खुद को संभालेगा या तबला बजाएगा? तबला लय में ही बजे इसकी कोई गारंटी नहीं।

वक़्त का तकाजा तो यही कहता है कि तबले-सबले पर खाक डालिए, ठंड के प्रकोप से खुद को बचाने की फिक्र कीजिए। खुद सलामत हैं तो देर-सवेर तबला भी बज ही जाएगा।

यहां तो अपनी उंगलियां की-पैड पर चलते जमने-सी लगीं हैं। मैं इन्हें अतिरिक्त कष्ट दे रहा हूं। मुझे इनकी फिक्र करनी चाहिए। तबला अभी नहीं तो फिर कभी बजाना सीख लूंगा। अभी तो फिलहाल ठंड से बचना मेरी प्राथमिकता में है। ये जाए तो कुछ सुकून मिले।

कोई टिप्पणी नहीं: