रविवार, 20 नवंबर 2016

सोनम गुप्ता बेवफा (नहीं) है

प्रिय आशिको,
मैं सोनम गुप्ता। ओह! मुझको तो अपना नाम बतलाने की जरूरत ही नहीं। मैं तो सोशल मीडिया पर आजकल सोनम गुप्ता बेवफा है के संबोधन से जबरदस्त ‘ट्रेंड’ कर ही रही हूं। अच्छा है। बहुत अच्छा है। ट्रेंड करवाने के लिए भाई लोग कुछ भी खोज या किसी को भी पकड़ लेते हैं। इस दफा मैं ही सही। खैर, कोई गम नहीं।

नोटबंदी के बाद जिस तरह से मेरे बेवफा होने के चर्चे खासो-आम हुए हैं- आपकी कसम- मुझे बहुत मजा आ रहा है। किस्म-किस्म के नोटों पर जब मैंने सोनम गुप्ता बेवफा है लिखा देखा, मेरा दिल तो सातवें आसमान पर पहुंच गया। रातभर में मैं इत्ती ‘फेमस’हो गई, इत्ती तो शायद मैं ‘मिस वर्ल्ड’बन जाने के बाद भी नहीं होती! अब तो चौबीसों घंटे मेरे भीतर ‘सेलिब्रिटी’वाली फीलिंग छाई रहती है। आपका तहे-दिल से बहुत-बहुत शुक्रिया।

लेकिन यहां मैं एक बात साफ कर दूं कि मैं बेवफा कतई नहीं हूं। हां, यह ठीक है कि मैं अपने बेवफा कहे या बनाए जाने को सोशल मीडिया पर ‘एन्जॉय’ जरूर कर रही हूं लेकिन बेवफाई से मेरा दूर-दूर तलक कोई नाता-वास्ता नहीं। अरे, बेवफा तो वो होगा न जो प्यार में धोखा देगा। प्यार में विश्वास को तार-तार करेगा। प्यार को समझने की कोशिश नहीं करेगा। किंतु मैंने तो कभी- न निजी जीवन में, न सोशल मीडिया पर- किसी से प्यार किया ही नहीं। फिर बताइए, मैं बेवफा कैसे हो गई?

अगर 10, 100, 500, 2000 के नोटों या डॉलर पर लिख देने भर से ही मैं बेवफा घोषित हो जाती हूं तो ऐसी बेवफाई पर मुझे ‘हंसी’ ही आ सकती है। न.. न.. मेरे लिए यह रोने या खीझने का विषय बिल्कुल भी नहीं है। दुनिया-समाज में किस्म-किस्म के लोग होते हैं, जो चीजों या व्यक्तियों को केवल ‘एन्जॉयमेंट’की नजरों से ही देखते-परखते हैं। ऐसे महानुभावों पर ‘रिएक्ट’ करना खुद को भरी भीड़ में ‘बौना’साबित करने जैसा है। और, बौना मैं किसी कीमत पर होना नहीं चाहती।

हालांकि मेरी बेवफाई के बाबत मुझसे मेरी फ्रेंड्स और कॉलेज में कई बार पूछा गया। मैंने सबको मुस्कुराते हुए एक ही जवाब दिया- कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना...।

फिर भी अगर आपको लगता है कि सोनम गुप्ता बेवफा है तो ये ही सही। सोशल मीडिया पर बेवफा होने जाने मात्र से न मेरा हीमोग्लोबिन, न मेरी प्लेटलेटस घट जानी हैं। यहां तो हर मोड़ पर कुछ न कुछ ‘ट्रौल’या ‘ट्रेंड’करता ही रहता है। लोग भी न अपनी अंदरूनी संतुष्टि के लिए क्या-क्या नहीं करते। आज सोनम गुप्ता है, कल को कोई और होगी।

सोशल मीडिया की कारिस्तानियों को अगर आप ‘दिल’ से लगा लेंगे तो बहुत मुश्किल होगी। यहां चीजों को या तो ‘एग्नोर’ कीजिए या ‘एन्जॉय’। जैसे मैं सोनम गुप्ता बेवफा है को खूब एन्जॉय कर रही हूं।

कोई टिप्पणी नहीं: