गुरुवार, 22 सितंबर 2016

श्रेष्ठ व्यंग्यकार होने का मुगालता

मुगालते पालने का शौक मुझे बचपन से है। हर टाइप का मुगालता मैं पाल सकता हूं। मुझे रत्तीभर ‘शर्म’ नहीं आती मुगालता पालने में। जैसे- आजकल मैंने अपने श्रेष्ठ व्यंग्यकार होने का मुगालता पाला हुआ है। चाहे दिन हो या रात 24x7 मैं इसी मुगालते में ‘ऐंठा’ रहता हूं। इस मुगालते ने मेरे दिलो-दिमाग पर ऐसा टनाटन असर किया है कि मैं- व्यंग्य के क्षेत्र में- किसी जूनियर या सीनियर व्यंग्यकार को कुछ समझता ही नहीं। यानी, जो हूं सिर्फ और सिर्फ मैं ही हूं।
न केवल पत्नी बल्कि मोहल्ले वालों को भी साफ कह दिया है कि वे मेरा नाम पुकारने से पहले उसके आगे ‘श्रेष्ठ’ अवश्य लगाएं। जब लोग अपने नाम के आगे अंतरराष्ट्रीय कवि या शायर लिख-लिखवा सकते हैं तो मैं क्यों नहीं श्रेष्ठ हो सकता? श्रेष्ठ होना मेरा लोकतांत्रिक अधिकार है। दुनिया को मेरी श्रेष्ठता का पता चले या न चले मगर मुझे यह एहसास हर वक्त रहना चाहिए कि मैं एक ‘श्रेष्ठ व्यंग्यकार’ हूं।
और फिर एक मैं ही नहीं इस समाज-दुनिया में हर कोई अपने-अपने हिसाब से मुगालते पाले बैठा है। किसी को अपने वरिष्ठ आलोचक होने का मुगालता है। किसी को अपने ईमानदार होने का मुगालता है। किसी को अपने बेस्ट नेता होने का मुगालता है। किसी को अपने धांसू कलाकार होने का मुगालता है। किसी को अपने उम्दा हलवाई होने का मुगालता है। तो प्यारे जिंदगी में अगर खुद को ‘ऊर्जावान’ बनाए रखना है तो खूब मुगालते पालिए। मुगालते पालने में न पैसे खर्च होने हैं, न दिमाग।
बाकी लेखकों का नहीं जानता किंतु व्यंग्यकार को खुद के श्रेष्ठ होने का मुगालता जरूर पालना चाहिए। व्यंग्यकार अगर मुगालता नहीं पालेगा तो मस्त टाइप व्यंग्य लिख ही नहीं पाएगा। दूसरों पर ‘कटाक्ष’ करने से बेहतर पहले खुद पर करके देखिए कि आप उसे ‘बर्दाशत’ कर भी पाते हैं कि नहीं। ऐसा नहीं होना चाहिए कि अपना गिरेबान तो दागदार है मगर हम दूसरे का गिरेबान पकड़कर उसे उसके दाग दिखा रहे हैं।
फेसबुक-टि्वटर आपको मौका देते हैं अपने बारे में किस्म-किस्म के मुगालते पालने का। जो मुगालते खुद के बारे में पाल रखे हैं, उन्हें बिंदास अपनी दीवार पर चिपका दीजिए। बाकी ‘लोग क्या कहेंगे’ इस पर खाक डालिए। ध्यान रखें, लोगों के कहे के चक्कर में अगर उलझे रहेंगे तो मुगालते कभी नहीं पाल पाएंगे।

फिलहाल, मैंने तो लोगों के कहे को परे रखकर अपने श्रेष्ठ व्यंग्यकार होने का मुगालता पाला हुआ है।

कोई टिप्पणी नहीं: