बुधवार, 13 जुलाई 2016

मेरा देश बदल रहा है!

जमीन पर इत्ता नहीं जित्ता सोशल मीडिया में 'मेरा देश बदल रहा है' का 'हल्ला' मचा हुआ है। यों भी, जब से सोशल मीडिया जीवन का हिस्सा बना है, तब से हम दो देशों के बीच गुजर-बसर करने लगे हैं। विडंबना देखिए, एक देश पानी और बेरोजगारी की त्रासदी भीषण रूप से झेल रहा है तो दूसरा देश लाइक और कमेंट के बल पर ही बदल व आगे बढ़ रहा है।

'मेरा देश बदल रहा है' यह कोई नया नारा नहीं है। अक्सर सरकारें इस टाइप के नारे को आधार बनाकर चुनाव लड़ती व जीतती हैं। मजा देखिए, महज साल दो साल के भीतर ही सरकार ने घोषित करना भी शुरू कर दिया- देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा। जो साठ साल में देश को न बदल पाए, हमने मात्र दो साल में ही बदलकर रख दिया! हैं न हम उनसे बेहतर।

और जनाब देश भी क्या खूब बदला है। जिस 'भारत माता की जय' के जयकारे पहले कभी-कभार लगा करते थे, अब हर गली-मोहल्ले में लगातार सुनाई पड़ते रहते हैं। 'राष्ट्रवाद' और 'गाय' के प्रति जो 'सम्मान' बढ़ा है, उसका तो कुछ पूछिए ही मत। देखा-दाखी, अब तो मैंने भी एक गाय अपने घर में पाल ली है। ताकि मेरी 'देशभक्ति' पर कोई 'शक' न कर सके।

मेरा देश ऐसा बदला है कि अब मुझसे भिखारी भी डिजिटल रूप में भीख मांगता नजर आता है। भीख लेते हुए सेल्फी लेता है। एक-दो रुपया नहीं सीधा पांच सौ का नोट मांगता है। अरे, ऑटोवाला तक तो 'पेटीएम' से पेमेंट ट्रांसफर करने को कहने लगा है। देश के बदलने के साथ-साथ अच्छे दिन भी ऐसे धांसू आए हैं कि तेल से लेकर टैक्स तक गर्दन पर छूरी लेकर सवार हो गए हैं। आखिर मेरा देश बदल जो रहा है।

पर कोई नहीं। मेरे देश की जनता बहुत सयानी व समझदार है, हर बदलाव और बोझ को हंसते-हंसते झेलने का दम-खम रखती है। वो तो सोशल मीडिया पर फैल रहे 'मेरा देश बदल रहा है' के नारे को ही 'हकीकत' मानकर चल रही है। जनता का सीना गर्व से फूला हुआ है। अमां, मजाक न समझो। सही कह रहा हूं।

बेट्टा, बड़े-बड़े देश ऐसे ही बदला करते हैं। जनता को पता भी नहीं चल पाता। 'मेक इन इंडिया' और 'डिजिटल इंडिया' की कथित सफलताएं क्या बताने को काफी नहीं कि मेरा देश बदल रहा है। दो साल में एक भी छोटा-बड़ा घोटाला सामने नहीं आया- मतलब साफ है- मेरा देश बदल रहा है।

मेरी बात मानिए। खोपड़ी पर अधिक लोड न डालिए। चुप-चाप बिना किसी इफ एंड बट के स्वीकार कर ही लीजिए कि मेरा देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है। साथ-साथ, अपना 'सौभाग्य' समझिए कि आप इस देश के सम्मानीत बादिंशे हैं। भारत माता की जय।

1 टिप्पणी:

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 'जाने-अनजाने आतंकवाद का समर्थन - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...