सोमवार, 11 जुलाई 2016

खबरदार! 'डियर' कहा तो...

मैं हर रोज न जाने कित्ते लोगों को 'डियर' शब्द से संबोधित करता हूं। कभी-कभार पत्नी को भी 'डियर' बोल देता हूं। मगर याद नहीं पड़ता- कभी किसी ने मेरे (डियर) कहे जाने पर 'आपत्ति' या 'नाराजगी' जतलाई हो। बल्कि अगले का सीना तो 'डियर' का सम्मान पाकर गर्व से चौड़ा हो जाता है। लेकिन मानव विकास संसाधन मंत्री तो 'डियर' शब्द पर ही भड़क उठीं। 'टि्वटर' पर ही शिक्षा मंत्री की 'क्लास' लगा दी। तुम्हारी मुझे 'डियर' कहने-लिखने की हिम्मत कैसे हुई।

वाकई, मंत्री के दिमाग और सेंसेक्स की चाल का कोई भरोसा नहीं रहता। कब में पलट जाए। जैसे- 'डियर' शब्द पर उन्हें ऐतराज है, कल को 'यार' कहने पर भी हो सकता है। इस टाइप के अंगरेजी-हिंदी में जाने कित्ते शब्द-संबोधन हैं अगर यों ही आपत्ति दर्ज होने लगे फिर तो प्यार भरे शब्दों को मुंह से निकालने में दस दफा सोचना पड़ेगा।

'डियर प्रकरण' के बाद से मैं थोड़ा सहम-सा गया हूं। किसी को भी (मय पत्नी) 'डियर' कहने-लिखने में 'परहेज' बरतने लगा हूं। न जाने कब, किसको मेरा 'डियर' कहना-लिखना अखर जाए। मंत्रीजी की तरह कोई मेरी भी 'क्लास' ले ले। पत्नी तो ऐसे झगड़ायुक्त मुद्दों की तलाश में रहती ही है। कहीं उसे ही 'डियर' शब्द पर ऐतराज हो गया तो...। अमां, यहां तो सुबह-रात के खाने और सोने के लाले पड़ जाएंगे। यों भी, आजकल पत्नी स्त्री-विमर्श एवं नारी-एकता पर बहुत जोर दे रही है।

फिर तो इस प्रकार के ऐतराज 'स्वीटी' या 'स्वीटहार्ट' जैसे परम-आत्मीय संबोधनों पर भी उठ सकते हैं। कल को बीवी-बहू-बेटी इसी पर क्लास लगाने लग जाए। आगे कोई पंगा बढ़े, बेहतर है, क्यों न अभी संभल जाओ।

बाकी ऐतराज-आपत्ति एक तरफ। मगर हां सोचना तो पड़ता है कि जहां समाज के भीतर निरंतर खुलापन बढ़ रहा है, ऐसे में 'डियर' शब्द पर 'झगड़ा'। समझ से परे है। विदेशों में तो लोग एक-दूसरे को जाने किन-किन शब्दों से संबोधित कर देते हैं। अब तो फिल्मों में 'डियर' से भी भयंकर टाइप शब्द खुल्ला कहे-बोले जा रहे हैं।

जो हो। अगर मंत्री महोदय को 'डियर' कहे जाने पर आपत्ति है तो है। भला किसमें हिम्मत, जो मंत्रीजी के ऐतराज पर कट लगा सके।

हालांकि 'डियर' बेहद खूबसूरत संबोधन है मगर मुझे डर है, कहीं अब इसे 'डिक्शनरी' में से ही बाहर निकालने की कवायद न होने लगे। जब 'उड़ता पंजाब' पर इत्ती हाय-तौबा मच सकती है फिर यह तो 'डियर' है। क्यों डियर...।

कोई टिप्पणी नहीं: