गुरुवार, 7 मई 2015

सल्लू मियां की किस्मत

वाह! सल्लू मियां वाह! किस्मत हो तो आप जैसी वरना न हो। तेरहा साल बाद पांच साल की जेल का इधर फैसला आया और तीन घंटे में उधर बेल भी मिल गई। अब इसे आपकी तेज किस्मत न कहूं तो और क्या कहूं? हमारे देश में न्याय प्रक्रिया का इत्ता तेज होना कम से कम आम आदमी के पक्ष में तो संभव नहीं। चूंकि आप सलमान खान हैं, न केवल बॉलीवुड बल्कि वर्ल्ड फेम पर्सनाल्टी हैं, आपके लिए इत्ता भी न होगा तो फिर किसके लिए होगा!

सच बोलूं सल्लू मियां, आपको जेल की सजा की खबर सुनकर मुझे रत्तीभर भी 'अफसोस' न हुआ। अफसोस क्यों होता, आखिर आप सलमान खान हैं। न केवल रील बल्कि रियल लाइफ में भी अलग किस्म के हीरो हैं। 'बीइंग ह्यूमन' नाम की संस्था चलाते हैं। अब तलक न जाने कित्ते मजलूमों की मदद कर चुके हैं। साथ-साथ आपको बॉलीवुड में यारों का यार भी कहा जाता है। शाहरूख से कई दफा टेढ़ी होने के बाद भी आप दोनों के बीच 'आत्मीयता' का रिश्ता बरकरार है। बड़ी बात है।

आपको जेल जाने में डर क्यों लगेगा? हालांकि जेल का नाम सुनते ही थोड़ी घबराहट अवश्य हुई होगी। मगर फिल्मों में न जाने कित्ती दफा आप जेल जा चुके हैं। जाने कित्ती दफा विलेन को जेल पहुंचाया है। जेल आपके लिए कोई नई जगह नहीं। आप जैसी हाई-प्रोफाइल पर्सनालटी के लिए जेल जाना सम्मान की बात मानी जानी चाहिए। हमारे देश के न जाने कित्ते नेता और कुछ फिल्मी कलाकार भी जेल जा चुके हैं। हाल-फिलहाल, संजय दत्त तो जेल में ही हैं। यों भी, संजय दत्त के लिए जेल जाना-आना अब गुडे-गुड़ियों का खेल-सा हो गया है।

और फिर सल्लू मियां जेल वाले कौन सा आपसे चक्की पिसवाएंगे, पत्थर तूड़वाएंगे, हल चलवाएंगे। या सूखी-बासी रोटी खाने को देंगे। आपको भी आपके मन मुताबिक कोई काम वहां मिल ही जाएगा। सुना है, आप पेटिंग बहुत मस्त बना लेते हैं। आपकी बनाई पेटिंग की चरचाएं भी खूब होती हैं। सुना यह भी है कि संजय दत्त जेल में बढ़ईगिरी का काम कर रहे हैं।

यों जेल से घर आना-जाना तो लगा ही रहेगा। पेरोल किसलिए है। संजय दत्त तो न जाने कित्ती दफा पेरोल पर जेल से घर आ-जा चुके हैं। सेलिब्रिटी अपराधियों के यही तो 'ठाठ' होते हैं। अभी होता कोई मेरे जैसा आम आदमी तो जेल की सजा सुनाए जाने के तुरंत बाद बेल मिलना तो दूर, कोर्ट से सीधा जेल भेज दिया गया होता।

अभी आप ठीक से जेल के करीब पहुंचे भी नहीं हैं मगर बॉलीवुड में आपके प्रति 'कथित सहानुभूति' के भाव ऐसे उमड़-घुमड़ रहे हैं मानो आपसे बढ़कर 'बीइंग ह्यूमन' इस धरती पर दूसरा कोई है ही नहीं। कथित सहानुभूति प्रकट करते-करते एक बड़े सिंगर ने गरीबों को 'कुत्ता' कह दिया। और गरीबों को फुटपाथ पर न सोने की हिदायत तक दे डाली। वाकई, बड़ी ही अजीबो-गरीब विचारधारा रखते हैं आपके बॉलीवुड वाले। गरीब के लिए शायद यहां कोई जगह ही नहीं। आपका यकायक 'बीइंग ह्यूमन' होना भी शायद 'जरूरत' कम 'मजबूरी' अधिक रही होगी।

चलिए खैर सजा तो सुना ही दी गई है। अब आप इन पांच साल जेल में आराम से आराम करना। लगातार काम करते-करते बंदा थक भी तो जाता है। इस नाते एक 'ब्रेक' तो बनता है। तब तलक हम आपकी फिल्में देख-देखकर ही अपना मन बहला लिया करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: