सोमवार, 29 सितंबर 2014

एट पैक एब्स की खातिर

चित्र साभारः गूगल
मैं अपने लेखन को कुछ दिनों के लिए 'विराम' दे रहा हूं। विराम देने का कारण है। पत्नी ने मुझे चुनौती दी है कि या तो मैं शाहरूख खान की तरह एट पैक एब्स बनाऊं या फिर लिखना छोड़ दूं!

दरअसल, पत्नी ने जब से शाहरूख खान को एट पैक एब्स में देखा है, उस पर फिदा हो गई है। शाहरूख खान की एट पैक एब्स वाली पिक को बैडरूम में मेरी फोटू की जगह टांग दिया है। कहती है, अब यह फोटू यहां से तब ही हटेगा जब तुम अपने एट पैक एब्स बना लोगे।

यो नो, मुझसे पत्नी की यह 'डिमांड' कोई नई नहीं है। इससे पहले मैं उसके तईं गजनी और अभी हाल पीके वाला आमिर खान बनकर दिखा चुका हूं। लेकिन क्या कीजिएगा... पत्नी के 'दिमाग' और 'डिमांड' का कोई भरोसा थोड़े होता है। कब मुझसे क्या करने या बनने को कह दे।

हालांकि मैं यह अच्छे से जानता हूं कि मेरे लिए शाहरूख खान की तरह एट पैक एब्स क्रिएट करना बहुत मुश्किल होगा। तमाम तरह की फीजिकल प्राब्लम्स मेरे सामने आ सकती हैं। मेरे लिए मेरे वेट को घटाना सबसे बड़ी चुनौती है। और फिर एक साधारण किस्म के लेखक को भला क्या जरूरत पड़ी है शाहरूख, सलमान या आमिर बनने की। यहां मुझे पन्ने काले-पीले करने से 'फुर्सत' मिलती नहीं, एट पैक एब्स कैसे बना पाऊंगा?

लेकिन बनाना पड़ेगा प्यारे। क्योंकि यह मेरी 'इज्जत' से ज्यादा 'पेट' का सवाल है। पत्नी ने साफ कह दिया है, तुम एट पैक एब्स जब तलक नहीं बना लेते, घर का खाना नहीं मिलेगा। फिलहाल, बाहर इंतजाम देखो। बताइए, मुझसे अधिक 'दयनीय' हालत भला किस पति की होगी, जो एट पैक एब्स भी बनाए और खाना भी बाहर का खाए।

इस सब के लिए मुझे पत्नी पर इत्ता गुस्सा नहीं आता जित्ता इन हीरो पर आता है। क्या इनके धोरे कोई काम-धाम नहीं है। कोई एट पैक एब्स बना लेता है, कोई नंगा होकर रेल की पटरी पर आगे बाजा लगाकर खड़ा हो जाता है, कोई ढोले-शोले निकाल लेता है, कोई बेतरतीब दाढ़ी ही बढ़ा लेता है। अरे, इनसे अच्छे तो पुराने जमाने के हीरो थे। कम से कम इस तरह की 'घोचूंपंती' तो नहीं किया करते थे। करते ये हैं, भुगतना हम जैसे पतियों को पड़ता है।

फिलहाल, मैंने एट पैक एब्स बनाने की खातिर 'ट्रेनिंग' शुरू कर दी है। अभी बहुत 'कर्रा' पड़ रहा है, पर करना पड़ेगा, पत्नी का अलटिमेटम जो है। मुझे डर है, एट पैक एब्स बनाने के चक्कर में कहीं मैं 'कांप-ठड्डा' न बन जाऊं। उफ्फ! क्या-क्या नहीं करना पड़ता पत्नी की डिमांड की खातिर।

1 टिप्पणी:

subuhi ने कहा…

did your wife really insisted you to develop eight pack abs ? or is it an imaginary creatively written post ?