सोमवार, 4 अगस्त 2014

चाहता था सलमान खान बनना, बन लेखक गया

चित्र साभारः गूगल
मुझे नहीं मालूम कि मैं लेखक कैसे और क्यों बन गया? लेखक बनने की मैंने कभी सोची भी नहीं थी। मेरा सपना तो सलमान खान जैसा बनने का था। सलमान खान जैसी बॉडी बनाने का था। सलमान खान जैसा हेयर स्टाइल रखने का था। सलमान खान जैसी फैन-फॉलोइंग बनाने का था। सलमान खान की तरह फिल्मों में 'दमदार हीरो' का किरदार निभाने का था।

लेकिन किस्मत को कहां ले जाऊं? किस्मत से ज्यादा भला यहां किसी को कुछ मिला है अब तक? अब चूंकि मेरी किस्मत में ही नहीं था सलमान खान जैसा बनना, सो न बन सका। महज लेखक बनकर ही रह गया। और, वो भी हिंदी का। अंगरेजी में हाथ जरा तंग था, इसलिए बात बनी नहीं। नहीं तो आज मैं भी अंगरेजी का दूसरा चेतन भगत होता! हाय! मेरी किस्मत यहां भी गच्चा दे गई।

भले ही, मैं सलमान खान न बन सका पर सलमान के प्रति दिल में अथाह इज्जत और प्यार रखता हूं। दिन का शायद ही कोई ऐसा घंटा जाता हो, जब मैं सलमान को याद न करता हूं। सलमान की फिल्म न देखता हूं। सच बताऊं, सलमान की फिल्म में मैं सलमान से ज्यादा उसकी बॉडी को देखता हूं। सलमान की बॉडी को देखकर मुझे 'एनर्जी' मिलती है। इत्ती उम्र में भी सलमान अपनी बॉडी को मेनटेन किए हुए है, यह वाकई बड़ी बात है। वरना, इत्ता ध्यान कौन रखता है?

अभी हाल जब से सलमान की किक देखी है, उसके प्रति मोह और बढ़ गया है। सलमान ने यह साबित कर दिया है कि मात्र किक के दम पर भी करोड़ों की कमाई की जा सकती है। सलमान की किक स्थापित तुर्रमखांओं की किकों को तोड़ने में सफल हुई। और, एक मैं हूं जो मात्र लेखन के दम पर कमाई करने की सोचता हूं लेकिन होती नहीं। यों भी, हिंदी का लेखक लेखन से कमाई के मामले में पीछे ही रहता है।

अब कहने को लोग कहते हैं कि सलमान को किस बात की चिंता? फिल्मों से करोड़ों की कमाई हो रही है। शादी की नहीं है, जो जिम्मेदारी को समझे। अकेले हो तो कुछ भी करो। कैसे भी रहो, कौन है रोकने-टोकने वाला। तब ही तो सलमान बॉडी में इत्ता फिट है। जो हो पर यह सब भी हवा में मैनेज नहीं हो जाता। इसके लिए हुनर चाहिए जो सलमान में है।

यह सलमान की जिंदादिली ही है, जो इत्ते विवादों-मुकदमों के बीच भी खुद को मेनटेन किए हुए है। खुशमिजाजी में भी सलमान का कोई जवाब नहीं। रही बात सलमान के गुस्से की तो इस मुकाम पर पहुंचकर गुस्सा किसी को भी आ सकता है। टेक इट इजी प्यारे।

फिलहाल, इस जन्म में तो कोई चांस मिलता दिखता नहीं सलमान खान जैसा होने-बनने का मगर अगले जन्म में मेरी कोशिश पूरी रहेगी कि मैं सलमान खान ही बनूं। क्योंकि जो बात सलमान खान में है, वो किसी में नहीं।

कोई टिप्पणी नहीं: