गुरुवार, 19 जून 2014

आ भी जाओ प्यारे मानसून

चित्र साभारः गूगल
प्यारे मानूसन, अच्छे मानसून, तुम कब आओगे? अब और अधिक देर न करो जल्द आ जाओ। इस समय हमें तुम्हारी बेहद जरूरत है। हमारी हर सुबह इसी उम्मीद के साथ होती है कि तुम आज आओगे और धरती पर बरसकर सूरज चचा के ताप से मुक्ति दिलाओगे। तुम नहीं जानते, सूरज चचा ने अपने ताप से धरती पर कैसा 'कहर' बरपाया हुआ है। सूरज चचा न दिन में चैन लेने दे रहे हैं, न रात को चैन से सोने दे रहे। आंख खुलते ही सुबह-सुबह छत पर टंगे मिलते हैं। न जाने किस जन्म का बदला सूरज चचा हमसे ले रहे हैं?

प्यारे मानसून, मैं जानता हूं तुम बहुत 'शक्तिशाली' हो। सूरज, गर्मी, पारा, बत्ती ये सभी तुमसे पनाह मांगते हैं। तुम्हारे आगे किसी का भी बस नहीं चलता। एक दफा अगर तुम शुरू हो गए तो फिर किसी के रोके नहीं रुकते। पिछले सालों में हम तुम्हारे विकट रूप को देख चुके हैं। इस समय गर्मी के मारे हमारा जो हाल है, उसे केवल तुम्हीं संवार-संभाल सकते हो। पारा है कि 46-47 डिग्री से नीचे उतरने का नाम ही नहीं लेता। गर्मी का असर इत्ता है कि मेरी कमीज से लेकर टैंक के पानी तक सबकु छ उबला हुआ लगता-मिलता है। उबले पानी में हाथ डालने में डर लगता है कि कहीं झुलस न जाएं। आंख उठाकर आसमान की तरफ देखने की हिम्मत नहीं होती। सूरज चचा तुरंत अपनी किरणों के तीर छोड़ देते हैं।

गर्मी, पारे को झेलने के साथ-साथ बत्ती के तीखे नखरों को भी बर्दाशत कर रहे हैं। क्या करें, बिन बत्ती या तो हाथ-पंखा झलते रहते हैं या फिर बदन पर से कपड़ों को हटा ऐसे ही बैठ जाते हैं। अव्वल तो हवा चल ही नहीं रही, जो चल रही है, वो गर्म इस कदर है कि सिर भन्ना जाता है। बत्ती न आने की शिकायत जाने कित्ती दफा बत्तीघर वालो से की। मगर वे कहते हैं, हमारे हाथ में कु छ नहीं, सब ऊपर वालो के हाथ है। ऊपर वाले हैं कि कु छ सुनने-समझने को तैयार ही नहीं। टका-सा जवाब दे देते हैं, उत्पादन घट गया है, तो हम क्या करें?

मार हर जगह, हर तरीके से पड़ रही है। और हम मार खाने को 'अभिशप्त' हैं।

प्यारे मानसून, अब तुम ही हमारी 'अंतिम उम्मीद' हो। सारी निगाहें बस तुम्हीं पर टिकी हैं। हम धरतीवासी तरस रहे हैं, तुम्हारी फु हार में भीग जाने को। पर खबर में ऐसा सुना है कि इस दफा तुम सामान्य से कम बरसोगे। शायद अभी करेल में कहीं अटके हुए हो। लेकिन वहां भी अभी उस तरह नहीं बरस पाए हो। यार, ऐसा न करो। कु छ तो हम धरतीवासियों का ख्याल करो। गर्मी-पारे ने हालत खराब कर रखी है। ज्यादा हालत खराब हो गई तो कहीं ऊपर जाने की टिकट न कटवाना पड़ जाए। इसीलिए माई डियर मानसून, तुम बिना रूके, बिना अटके हमारे यहां आ जाओ।

कम से कम अभी इत्ता तो बरस ही जाओ कि हम पारे के दंश से कु छ तो उभर सकें। दिन में न सही कम से कम रात में तो चैन की नींद ले सकें। गर्म हवा ठंडी हवा का एहसास देने लगे। तुम बरसोगे तो बत्तीवाले भी हम पर थोड़ा मेहरबान रहेंगे। बेवजह न हम उन पर, न वे हम पर झल्लाएंगे।

तुम्हारी खातिर मैं हर तरह का टोना-टोटका करने को तैयार हूं। अपने सिर के बाल तक मुंडवा सकता हूं। गर्म धरती पर दो-चार किलोमीटर पैदल भी चल सकता हूं। आज तलक कभी भगवान के द्वार पर नहीं गया पर तुम्हारी खातिर वहां भी जा सकता हूं।

इत्ती सिफारिश के बाद, उम्मीद है, तुम हमें 'निराश' न करोगे और बहुत जल्द हमारे द्वार पर दस्तक दोगे। ज्यादा इतराओ नहीं प्यारे मानसून अब आ भी जाओ।

2 टिप्‍पणियां:

Vinay Prajapati ने कहा…

Wonderful post... :)

कविता रावत ने कहा…

आना ही उसे..
बढ़िया चुटकी